हमारी नवीनतम पोस्टें :


03 मई, 2011

काश ऐसा हो जाये .....

काश ऐसा हो जाये .....
काशी  से मक्का 
मक्का से मथुरा 
गले मिल जाए 
मन्दिर की घंटिया 
मस्जिद की अज़ान 
एक दुसरे में समा जाएँ 
हिन्दू ,मुस्लिम सिक्ख इसाई 
धर्म के नाम पर 
अधर्मी बन नफरत जो फेला रहे है 
यह जानवर से इंसान बन जाये 
और एक दुसरे के 
गले लगकर 
एक दुसरे में समा जाए 
काश ऐसा हो जाए ........................ अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें