हमारी नवीनतम पोस्टें :


07 मई, 2011

माई माई जी ...

माई माई जी ... आज का दिन तुम्हारा है क्या केवल एक दिन ही तुम्हारा है नहीं ना तो माई आज ही क्यूँ रोज़ रोज़ तुझे मेरा सलाम ,मरते दम तक तुझे मेरा सलाम ............... अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें