हमारी नवीनतम पोस्टें :


07 मई, 2011

नोएडा में फिर किसानों पर गोलीबारी

उत्तरप्रदेश सरकार ने गरीब किसानों की जमीन कम मुआवज़े पर लेकर पूंजीपतियों को जब दी तो नोयडा के किसान इसे बर्दाश्त नहीं कर सके अधिक मुआवजा देने की मांग पर किसान पहले तो सडकों पर आये फिर किसानों ने एक कन्डक्टर ,ड्राइवर और सरकारी कर्मचारी का अपहरण कर लिया बस फिर किया थी उत्तरप्रदेश पुलिस बिना रेकी किये किसानों से संघर्ष करने जा पहुंची ......................
उत्तरप्रदेश सरकार चाहती तो किसानों से वार्ता कर सकती थी लेकिन किसानों से सख्ती से निपटने के आदेश के बाद पुलिस और प्रशासन आपे से बाहर हो गया किसानों से संघर्ष के बाद पहले लाथिवर किया फिर गोली चलाई किसानों ने भी गोली चलाई पुलिस के दो जवान शहीद हुए ,अधिकारियों के छोटे आयीं और अब अधिकारी अस्पताल में है माहोल में तनाव हे बंधक तो नहीं छूटे मामला और उलझ गया है किसानों और पुलिस के इस संघर्ष के बाद वहां आगामी चुनाव को लेकर राजनीति तेज़ हो गयी है घायलों की कुशल क्षेम और समस्या के समाधान की तरफ किसी का ध्यान नहीं है बस राजनीति हो रही है राजनीती हो रही है ...............अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें