हमारी नवीनतम पोस्टें :


05 मई, 2011

मेरा ख्वाब एक ............

कल रात की ही तो बात है 
मेने 
एक हसीन 
ख़्वाब देखा था 
सभी जो लोग है 
सभी जो ब्लोगर्स है 
एक साथ बेठे 
हंस बोल रहे थे 
एक दुसरे को 
प्यार से पपोल रहे थे 
फिर यह क्या 
सुबह ऐसी क्यूँ हुई 
खुबसूरत ख़्वाब 
जो देखा था मेने 
वोह फिर अलसुबह 
क्यूँ टूट गया 
खुशनुमा माहोल का दामन 
एक बार फिर मुझ से 
क्यूँ रूठ गया 
इलाही 
अब तो तू ही 
कुछ ऐसा कर 
जो बिखर रहे हैं ब्लोगर्स 
उन्हें 
प्यार अपनेपन की 
सिक्ख देकर 
खुशियों के साथ 
एक कर 
मेरा ख्वाब एक 
खुदा 
कुछ भी हो 
अब तो सच कर ....................
अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

1 टिप्पणी:

  1. इलाही
    अब तो तू ही
    कुछ ऐसा कर
    जो बिखर रहे हैं ब्लोगर्स
    उन्हें
    प्यार अपनेपन की
    सिक्ख देकर
    खुशियों के साथ
    एक कर
    मेरा ख्वाब एक
    खुदा
    कुछ भी हो
    अब तो सच कर ....................
    अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

    आपके ख़्वाब ज़रूर सच होंगे,फ़िक्र न करें.
    अब आपकी टिप्पणिया कहीं कहीं दिख जाती हैं.अन्य ब्लोगों पर जाना ,उन्हें पढ़ना और टिप्पणी देना आपके नाम को आगे बढ़ाएगा.

    उत्तर देंहटाएं